Agar Koi Dost Aapka Dukh Sunkar Chala Jaye

अगर कोई “दोस्त” आपका “दुःख” सुनकर
उठ कर चला जाए…
!! … !!
तो उसे “गद्दार” नहीं समझना चाहिए…



हो सकता है वो कहीं…




डिस्पोजल “ग्लास” और “बोतल” लाने गया हो…!!
😛 😉 😀 😉 🙂 🙂 😛 😉 😀 😉 🙂 🙂 😛 😉 😀 😉 🙂 🙂

Leave a Reply