Police Training Ke Samay Joke

पुलिस ट्रेनिंग के समय, अफसर ने पूछा :- ये हाथ में क्या है तुम्हारे…?

पप्पू :- सर जी, ये #बन्दूक है…

अफसर :- ये #बन्दूक नहीं है! तुम्हारी शान है, इज़्ज़त है, ये तुम्हारी माँ है माँ…

फिर अफसर ने दूसरे सिपाही राजू से पूछा :- ये हाथ में क्या है तुम्हारे…?

राजू: सर जी, ये पप्पू की माँ है, उसकी शान है, उसकी इज़्ज़त है, और हमारी
चाची है चाची…!!!!

!! अफसर बेहोश !!
😛 😉 😀 🙂 🙂 😛 😛 😉 😀 🙂 🙂 😛

Joke on Bollywood Movie Name

क्या ‘ज़माना’ आ गया है…

Movie का नाम “Toilet“…
अब किसी के साथ Movie देखने
जाना हो तो सोचो क्या कहेंगे…
Toilet” लगी है… देखकर आते है!!
😉 🙂 🙂 😀 😛 😉 🙂 🙂 😀 😛 😉

Bachha- Shadi Me Item Girl Joke

एक बच्चा अपने “पापा” की “शादी” की
#CD# देख रहा TV पर…
.
.
.
बच्चा = हम भी अपनी “शादी” मे “आइटम गर्ल”
नचवायेगे “पापा“…
.
.
.
पिता = #हरामखोर#… ये तेरी “बुआ” और “मौसी” है।
😉 🙂 😀 😛 🙂 😉 🙂 😀 😛 🙂 😉 🙂

Coffee Shop Me Ek Ajib Sa Aadmi Joke

आज “कॉफ़ी” शोप में एक अजीब से “आदमी” को देखा…
/*/*/*/
/*/*/*/
/*/*/*/
वो “आदमी” ना तो अपने “Mobile” में कुछ कर रहा था,
/*/*/*/
/*/*/*/
/*/*/*/
और ना ही अपने “Laptop” में कुछ कर रहा था।
जैसे पागल हो बिलकुल…सिर्फ़ “कॉफ़ी” पी रहा था।
-*-*-*–*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-
Just Like You… Always Read My Message
But Not Reply Me…
😉 🙂 😀 😛 🙂 😉 🙂 😀 😛 🙂 😉 🙂 😀

Joke on Mein Hoon Don

अमिताभ” = मैं हूँ “DON“…. “शाहरूख़” = मैं हूँ “DON”
….
….
….
….
दाउद” = मतलब, मैं रामु “काका“…!!
😉 🙂 😀 😛 🙂 😉 🙂 😀 😛 🙂

Boyfriend Chalaak Hi Nahi Kameene Bhi Hote Hain

Girlfriend = मैं अपना “पर्स” घर पर भूल आई,,,,
मुझे 2,000 रुपये की जरूरत है।
*/*
*/*
*/*
Boyfriend = कर दी न यार छोटी बात,,,,
पगली यह ले 15 रुपये।
*/*
*/*
*/*
अभी E-रिक्शा करके *घर* जा और “पर्स” ले आ।
*-*-*-*-*-* Girlfriend बेहोश *-*-*-*-*-*
😉 🙂 😀 😛 🙂 😉 🙂 😀 😛 🙂 😉 🙂

Bandook Aur Kaaratoos Kahan Hain

पल्स पोलिओ की ‘टीम’ घर आयी…
संता (पत्नी से) : = *बंदूक* और *कारतुस* कहाँ हैं ?
::
::
::
पोलिओ ‘टीम’ भागी….
::
::
::
पीछे से “संता” ने *आवाज* दी,
*रुको* ओये *रुको*, ये हमारे “बच्चो” के ‘नाम’ हैं!!
😀 😛 😀 😉 🙂 😀 😛 😀 😉 🙂

Patni Ki Photo Upload On Facebook

शर्माजी : = तेरी ‘पत्नी’ कल क्यों *ज़ोर ज़ोर* से ‘चिल्ला’ रही थी?
उसकी ‘आवाज़’ मेरे *घर* तक आ रही थी…
.
.
.
वर्माजी : = अरे, यार ऐसी कोई ‘ख़ास’ बात नही थी;
उसकी फोटो ‘फ़ेसबुक’ पे *अपलोड* करने की जगह …..
‘OLX’ पे *अपलोड* हो गयी।
.
.
.
और *हद* तो तब हो गई – जब एक ‘लड़के’ ने कहा:-
भाई ये “1965” का ‘कबाड’ किसने डाला हैं?
😛 😉 😀 🙂 😛 😉 😀 🙂